वैदिक ज्योतिष एक नज़र में!

Aquarius-Ascendantभारतीय संस्कृति का आधार वेद को माना जाता है. वेद धार्मिक ग्रंथ ही नहीं है बल्कि विज्ञान की पहली पुस्तक है जिसमें चिकित्सा विज्ञान, भौतिक, विज्ञान, रसायन और खगोल विज्ञान का भी विस्तृत वर्णन मिलता है. भारतीय ज्योतिष विद्या का जन्म भी वेद से हुआ है. वेद से जन्म लेने के कारण इसे वैदिक ज्योतिष के नाम से जाना जाता है.

वैदिक ज्योतिष की परिभाषा
वैदिक ज्योतिष को परिभाषित किया जाए तो कहेंगे कि वैदिक ज्योतिष ऐसा विज्ञान या शास्त्र है जो आकाश मंडल में विचरने वाले ग्रहों जैसे सूर्य, चन्द्र, मंगल, बुध के साथ राशियों एवं नक्षत्रों का अध्ययन करता है और इन आकाशीय तत्वों से पृथ्वी एवं पृथ्वी पर रहने वाले लोग किस प्रकार प्रभावित होते हैं उनका विश्लेषण करता है. वैदिक ज्योतिष में गणना के क्रम में राशिचक्र, नवग्रह, जन्म राशि को महत्वपूर्ण तत्व के रूप में देखा जाता है.

राशि और राशिचक्र
राशि और राशिचक्र को समझने के लिए नक्षत्रों को को समझना आवश्यक है क्योकि राशि नक्षत्रों से ही निर्मित होते हैं. वैदिक ज्योतिष में राशि और राशिचक्र निर्धारण के लिए 360 डिग्री का एक आभाषीय पथ निर्धारित किया गया है. इस पथ में आने वाले तारा समूहों को 27 भागों में विभाजित किया गया है. प्रत्येक तारा समूह नक्षत्र कहलाते हैं. नक्षत्रो की कुल संख्या 27 है. 27 नक्षत्रो को 360 डिग्री के आभासीय पथ पर विभाजित करने से प्रत्येक भाग 13 डिग्री 20 मिनट का होता है. इस तरह प्रत्येक नक्षत्र 13 डिग्री 20 मिनट का होता है.

वैदिक ज्योतिष में राशियो को 360 डिग्री को 12 भागो में बांटा गया है जिसे भचक्र कहते हैं. भचक्र में कुल 12 राशियां होती हैं. राशिचक्र में प्रत्येक राशि 30 डिग्री होती है. राशिचक्र में सबसे पहला नक्षत्र है अश्विनी इसलिए इसे पहला तारा माना जाता है. इसके बाद है भरणी फिर कृतिका इस प्रकार क्रमवार 27 नक्षत्र आते हैं. पहले दो नक्षत्र हैं अश्विनी और भरणी हैं जिनसे पहली राशि यानी मेष का निर्माण होता हैं इसी क्रम में शेष नक्षत्र भी राशियों का निर्माण करते हैं.

नवग्रह

वैदिक ज्योतिष में सूर्य, चन्द्र, मंगल, बुध, गुरू, शुक्र, शनि और राहु केतु को नवग्रह के रूप में मान्यता प्राप्त है. सभी ग्रह अपने गोचर मे भ्रमण करते हुए राशिचक्र में कुछ समय के लिए ठहरते हैं और अपना अपना फल प्रदान करते हैं. राहु और केतु आभासीय ग्रह है, नक्षत्र मंडल में इनका वास्तविक अस्तित्व नहीं है. ये दोनों राशिमंडल में गणीतीय बिन्दु के रूप में स्थित होते हैं.

लग्न और जन्म राशि
पृथ्वी अपने अक्ष पर 24 घंटे में एक बार पश्चिम से पूरब घूमती है. इस कारण से सभी ग्रह नक्षत्र व राशियां 24 घंटे में एक बार पूरब से पश्चिम दिशा में घूमती हुई प्रतीत होती है. इस प्रक्रिया में सभी राशियां और तारे 24 घंटे में एक बार पूर्वी क्षितिज पर उदित और पश्चिमी क्षितिज पर अस्त होते हुए नज़र आते हैं. यही कारण है कि एक निश्चित बिन्दु और काल में राशिचक्र में एक विशेष राशि पूर्वी क्षितिज पर उदित होती है. जब कोई व्यक्ति जन्म लेता है उस समय उस अक्षांश और देशांतर में जो राशि पूर्व दिशा में उदित होती है वह राशि व्यक्ति का जन्म लग्न कहलाता है. जन्म के समय चन्द्रमा जिस राशि में बैठा होता है उस राशि को जन्म राशि या चन्द्र लग्न के नाम से जाना जाता है.

This entry was posted in Vedic Astrology and tagged . Bookmark the permalink.

7 Responses to वैदिक ज्योतिष एक नज़र में!

  1. rakesh kumar says:

    date of birth 21 03 1974 time 10 o6 am

  2. rakesh kumar says:

    money problem

  3. ajay says:

    I want to see my baby’s astrology. he born on 31.12.2009 at 12.10 p.m.

    pl. send the same

  4. kamal narain rai says:

    dear sir i want to know about my carrer

  5. It’s very good if this way you help to the people who are arranging marriage. your free vedic gunak melapak is helping the people who are really need of it.
    I pray to God for those who participated and arranged on this site for free of cost to make their marriage life better and better. Happy family is the first and primer sukh of all the sukh. so you are doing those type of services to the needy people..

  6. anshu kumari says:

    Respected sir, iwas born on 12 september at 6pm.location bettiah (bihar).Please tell about my future . I’m married and My hubby name is Mr ravi bhushan.We are facing more problem. When we will start a good life . I want to start my own business Can I getting success in my life .Ple tell about my future and my marriage life.

  7. get married 5 years earlier but still i dont have baby. i want to know what is the problem. when it happen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *